भारतीय टॉयलेट सिस्टम हमेशा से ही वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम से बेहतर रहा है । भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने से शरीर को कई फायदे मिलते हैं । वहीं दूसरी ओर वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने से शरीर को केवल नुकसान ही होते हैं ।

​वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल बचपन से करने से इंसान की हड्डियां कमजोर होने लगती है । इसके इस्तेमाल से सबसे ज्यादा प्रभाव जोड़ों की हड्डियों में पड़ता है । धीरे-धीरे जोड़ों की हड्डियां कमजोर होने लगती है ।

भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने के फायदे –

​1) दोस्तों भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने वाले लोग अपने हाथों को साबुन से धोते हैं जबकि वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करने वाले लोग टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करते हैं । इसलिए उनके हाथों में बैक्टेरिया का खतरा बना रहता है ।​

​2) भारतीय टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करते वक्त बार-बार उठना और बैठना पड़ता है जिस वजह से शरीर की अच्छी खासी एक्सरसाइज हो जाती है ।

​3) भारतीय टॉयलेट सिस्टम को इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसके इस्तेमाल से पाचन तंत्र पर ज्यादा दबाव पड़ता है और पेट अच्छी तरह से साफ होता है ।